चाचा ने दिया मुँह में लौड़ा - बेस्ट नई सेक्स स्टोरी

चाचा ने दिया मुँह में लौड़ा: मै बहुत ज्यादा डरी हुयी थी। और पसीने में भीग चुकी थी। चाचा ने मुझे कमरे में ले जाकर कमरा बंद कर दिया, और अपने कपडे निकाल कर मेरे सामने ही पुरे नंगे हो गए। और में बालो को कसकर पकड़ कर अपना लौड़ा मेरे होठो के पास लगाकर जबरजस्ती मेरे मुँह में ठूंसने लगे।




chaachaa ne diya muh me lauda
chaachaa ne diya muh me lauda

चाचा ने दिया मुँह में लौड़ा: बेस्ट नई सेक्स स्टोरी 


हेलो दोस्तों मेरा नाम चिंकी है, में बीकॉम सेकेंड ईयर की स्टूडेंट हूँ। में sexstory.xyz की एक पाठक हूँ। इसलिए मेने आज यहां मेरे साथ हुयी एक घटना को आपके साथ शेयर किया है। उम्मीद है आप सभी लोग इसे पूरा पढ़कर मेरी चुदाई का लुप्त उठाएंगे। 


इसे भी पढ़ें - The dirty Girlfriend


बात आज से लगभग एक साल पहले की है। में दिल्ली में मेरे चाचा चाची के साथ अपनी पढाई कर रही थी। मेरे पापा मम्मी कानपुर में रहते है। में दिल्ली में बारहवीं क्लास के बाद आ गयी थी। मेरे चाचा की एक मोबाइल रिपेरिंग की दूकान है। और चाची एक हाउस वाइफ है। 


जब में कानपुर में थी, तब मेरे पापा ने मुझे दसवीं क्लास में फर्स्ट आने पर एक मोबाइल गिफ्ट करने का वादा किया था। मेने उस साल लगन से पढाई की और अच्छे अंको से दसवीं क्लास पास की। फिर मेरे पापा ने कहे अनुसार मुझे एक एंड्राइड मोबाइल गिफ्ट किया। और यही से आता है मेरी लाइफ में ट्विस्ट। 


दोस्तों गर्मियों की छुट्टियों में मेने जब मोबाइल लिया था तो में दिन रात बस मोबाइल में ही लगी रहती थी। इसके लिए मुझे कई बार पापा ने डाट भी लगाई है। फिर मेने एक फेसबुक का अकाउंट बनाया। और नए नए लोगो से दोस्ती करने लगी। मेरी एक लड़के से अच्छी फ्रेंडशिप नहीं हो गई। 


जिस लड़के से मेरी फ्रेंडशिप हुयी वो जबलपुर का रहने वाला था। उसने कुछ दिन बाते की मेने भी सोचा की चलो बातचीत करने में क्या दिक्कत है। वैसे भी वो वहा से कहा मुझे मिलने आ रहा था। फिर मेने सोचा की अब वो मुझे प्रपोज़ करेगा और बाकि लड़को की तरह बाकि सारे काम करेगा। 


लेकिन वो बहुत ही अजीब था। उसने मुझे एक रात चैटिंग करते हुए विडिओ कॉल करने के लिए कहने लगा। मेने कहा ठीक है , पर में कुछ बोलूंगी नहीं। आखिर में भी उसकी सूरत देखना चाहती थी। हलाकि बाकी लड़को की तरह उसने भी अपनी फोटो फेसबुक प्रोफाइल में लगा रखी थी। जहा मेने उसे आलरेडी देख रखा था। 


मेने कहा ठीक है तुम कॉल करो। उसने कहा में कॉल तो कर रहा हूँ पर तुम्हारे साथ कोई हे तो नहीं। मेने कहा नहीं कोई नहीं है सब साइड वाले कमरे में है। उसने कहा हां क्युकी में अभी अपने कमरे में लेटा हुआ हूँ और मुझे कपडे निकाल कर सोने की आदत है। मेंने आश्चर्य से पूछा क्या सारे कपडे निकाल के सोते हो। तब उसने कहा हां सारे कपडे निकाल कर ही सोता हूँ।


मेने कहा मुझे तो यकीन नहीं हो रहा। और असल में मेरी उसे देखने की चाहत और बढ़ गयी थी। क्युकी मेने कभी किसी लड़के को पूरा नंगा नहीं देखा था। और में बस एक बार उसके नंगे बदन को देखना चाहती थी। मेने कहा ठीक हे तुम कॉल करो। फिर उसने मुझे फेसबुक के मेसेंजर से मुझे वीडियो कॉल किया।


जब मेने देखा की उसका कॉल आया तो मेने देखा की उस लड़के का फेस दिखाई दे रहा था और उसने ऊपर शर्ट या बनियान कुछ नहीं पहना था। मतलब उसे देखकर तो लगा की ऊपर से वो नंगा था। फिर मेने कहा तुम तो कह रहे थे की तुमने कुछ नहीं पहना है। तब उसने कहा हां मेने सच में कुछ नहीं पहना है। मुझे अब उसके लण्ड को देखने की उत्सुकता बढ़ गयी थी।


पर में उसे लड़की होने के नाते डायरेक्ट तो बोल नहीं सकती थी की मुझे अपना लण्ड दिखाओ, इसलिए लिए मेने उससे कहा की तुम ठीक से दिखाई भी तो नहीं दे रहे हो। में कैसे मान लू की तुम नंगे हो।  तब उसने अपने मोबाइल का कैमरा अपने लण्ड के तरफ घुमाया। मेने देखा की उसका लण्ड लगभग ६ इंच का होगा। जो बिलकुल टाइट खड़ा हुआ था। उसने अपने लण्ड के टोपे की पूरी तरह से पीछे खिंचा। और उसके लण्ड का गुलाबी रंग का टोपा फूलकर बाहर निकल गया।


और उसके लण्ड से गाढ़े पानी जैसा कुछ बह रहा था। फिर उसने अपने लण्ड को अपने हाथो में लेकर जोर जोर से ऊपर निचे हिलाने लगा। फिर क्या था में बड़े ही ध्यान से उसके लौड़े को देख रही थी। कुछ ही देर में उसका वीर्य निकल गया। और उसे कैमरा अपने वीर्य के पास ले जाकर मुझे दिखाया ,मेने पहले ऐसा कभी नहीं देखा था।


फिर मेने उससे पूछा की ये तुमने क्या किया तो उसने बताया की मेने तुम्हारे चेहरे को देखकर मुठ मारा। मेने पूछा मुठ मारने से क्या होता है। उसने कहा जैसे तुम लड़किया ऊँगली करके संतुस्ट होती हो। वैसे हम लड़के मुठ मारके संतुस्ट होते है। मेने पूछा तो क्या सारे लड़के मुठ मारते है। तो उसने बताया जिनके पास जुगाड़ नहीं होती वो तो मारते ही है।


जब में रात उससे बात करने के बाद सोने लगी तो मेरे दिमाग में बस लण्ड की ही तस्वीर घूम रही थी मुझे अब बस सच में लण्ड देखना था। पर में किसी को बोल भी तो नहीं सकती थी। फिर उस लड़के ने मुझे कुछ इमेजेज भेजी जिसमे कई सारे लण्ड की फोटो थी। अब में उन्ही फोटोज को देखती और उन्ही के बारे में सोचती। वो लड़का कई दिन तक रोज वीडियो कॉल करके मुझे अपना लण्ड दिखाता और मुठ मारने लगता।


एकदिन उसने मुख मैथुन वाली वीडियो भेजी मेने उस वीडियो को पूरी तरह से देखा और कई बार देखा। मेने उससे कई सारे विडिओ लिए और में रात रात भर गंदे वीडियो देखने लगी। फिर उसने मुझे sexstoryhindi.xyz के बारे में बताया। और तभी से में इस वेबसाइट पर सेक्स स्टोरी पढ़ने लगी हूँ।


दोस्तों अब मुझे असली लण्ड की तलाश थी। में बस अब लण्ड चूसना चाहती थी। मेरी इस चाहत ने मुझे इतना बुरा बना दिया की में रात में एक बार अपने छोटे भाई को पढ़ाने के लिए उसके कमरे में गई मेने कहा अरे राहुल पढ़ाई कैसी चल रही है। राहुल ने कहा दीदी ठीक ही चल रही है। मेने कहा कोई दिक्कत हो तो पूछ लेना आज में यही तुम्हारे पास सोऊंगी।


राहुल मुझसे बहुत छोटा है। लेकिन में उसके पास गलत इरादे से गई थी। में उसका लण्ड देखना चाहती थी, हलाकि राहुल मुझसे छोटा था तो मुझसे डरता बहुत था और मेरी रिस्पेक्ट भी बहुत करता था। वो दसवीं क्लास का स्टूडेंट था। तो मेने सोचा इससे कैसे भी करके इसका लण्ड बाहर निकलवा लू और एक बार देख लू।


राहुल उस समय चड्डे और बनियान में था और मेने लोअर और टी शर्ट पहन रखी थी। मेने फिर कहा राहुल क्या तुम्हे गर्मी नहीं लग रही है। तब राहुल ने कहा हाँ दीदी गर्मी तो है। फिर मेने कहा यार में तो डबल कपडे पहन कर नहीं सो सकती और मेने अपनी टी शर्ट निकाल दी। मेने अंदर गुलाबी रंग की ब्रा पहन रखी थी। और में राहुल के सामने एक किताब लेकर लेट गयी और किताब पढ़ने लगी।


मेंने धीरे से किताब हटाकर देखा की राहुल मेरे बूब्स की तरफ ही देख रहा था। फिर मन ही मन मेने सोचा चलो काम बन रहा है। मतलब राहुल भी समझदार हो गया था। फिर मेने लेटे लेटे ही अपनी लोअर निकालते हुए कहा यार कितनी गर्मी हे आज और मेने अपनी लोअर भी निकाल दी। अब में केवल ब्रा और पेंटी पर राहुल के सामने लेटी हुयी थी। अब राहुल थोड़ा आश्चर्य करने लगा और मेरी तरफ देखे जा रहा था।


लेकिन में बिलकुल नार्मल बर्ताव कर रही थी। ताकि वो गुस्सा होकर पापा से न बता दे। पर मेरे सर पर तो लण्ड देखने का भूत सवार था। फिर मेने उसके बेग के पास में पड़ी इसकी मैथ्स की बुक में प्रिया लिखकर उसके पास ही रख दी ,और किसी और किताब को पढ़ने लगी। फिर में उठकर बैठ गयी। और तकिया उठाकर अपनी गोद में रखकर बैठ गयी।


इसे भी पढ़ें - hard fuck to my little sister


और फिर मेने राहुल की मैथ्स वाली बुक उठाकर उसको खोलकर देखने लगी। और फिर मेने अपने ही द्वारा लिखे उस प्रिया नाम को उसको दिखाकर पूछ क्यों ये प्रिया कौन है। तब उसने कहा कौन प्रिया दीदी मुझे नहीं पता। मेने कहा यह तेरी ही बुक हे ना? राहुल ने हां दीदी पर कसम से मुझे ही पता ये किसने लिखा है। मैंने उसके कान पकड़ कर नोचते हुए कहा रुक तू अब। सुबह पापा को दिखाउंगी न तो सब पता चल जाएगा।


अब राहुल दर के मारे कापने लगा और उसने कहा दीदी प्लीज पापा को कुछ न कहना वरना मुझे बहुत मर पड़ेगी। मेने कहा क्यों न बताओ इतने से हो और गर्लफ्रेंड बनाने का शौक चढ़ा है। तब राहुल कहने लगा नहीं दीदी में नहीं जानता किसी प्रिया को।


मेने कहा चल ठीक है अब तू सोजा। और अब बिंदास होकर अपने हाथो को सर के पीछे रखकर पैर फैलाकर लेट गयी। मेरे उस समय अंडरआर्म में बाल आ चुके थे।  जो काले और घने भी थे। और मेने बहुत समय से बाल साफ भी नहीं किये थे ,मेने राहुल से कहा चल आकर लेट जा मेने पास। पर वो मुझे घूर कर देख रहा था। जब राहुल को लेटे हुए कुछ देर हुयी तो मेने उसे कहा ये डबल कपडे पहन कर लेटने से मुझे भी गर्मी लग रही है। तू भी अपने कपडे निकालकर चड्डी बनियान में लेट।


राहुल भी अब चड्डी और बनियान में होकर मेरे बगल में लेट गया। कुछ ही देर में मेने उसके पेट पर अपना पैर रखा दिया और अपनी जांघ से उसके नुन्नू को रगड़ कर टटोला तो मेने देखा की उसका लण्ड खड़ा हो चुका था। 
और वो आँखे बंद करके लेटा हुआ था। और सोने का नाटक कर रहा था। मेने धीरे से उसके लण्ड के ऊपर अपना हाथ रख दिया। कुछ देर रुके रहने के बाद जब मैंने उसके लण्ड को चड्डी के ऊपर से ही सहलाया तो उसका लण्ड ऊपर निचे होने लगा। और वो और ज्यादा टाइट हो गया।


राहुल समझ रहा था की में साझ रही हूँ की वो सो गया। पर में समझ गयी थी की वो जग रहा है। और मेरे स्पर्श को एन्जॉय कर रहा था। अब मेने भी मौका देखकर उसकी चड्डी के अंदर अपना हाथ डाल दिया और मेने पाया की उसका लण्ड पूरा पानी छोड़ रहा था। अभी उसका साइज इतना ज्यादा बड़ा नहीं था पर वो एक्टिव हो चूका था।


मेने फिर धीरे से उसकी चड्डी को निचे खिसका दिया और उसके नुन्नू को अच्छे से देखने लगी इसके लिए मेने लाइट ऑन कर लिया और उसके लण्ड को देखकर मुझसे रखा नहीं गया और मेने अपनी ब्रा और पेंटी भी निकाल दी। फिर मेने उसके लण्ड को सहलाना शुरू किया। और में उसके साथ खेलना शुरू किया फिर मेने उसके लण्ड पर अपने बूब्स रगड़ना शुरू किया।


कुछ देर में जब मेरा मन गया तो में उसके लण्ड को लेने के लिए जैसे ही उसके लण्ड को अपनी चूत के पास लाया उसका लण्ड पानी छोड़ने लगा मतलब उसका वीर्य निलकने लगा। फिर फिर अच्छे से मुठ मारकर उसके लण्ड को साफ किया और उसे वैसे ही सोने दिया। दूसरे दिन पता नहीं क्या हुआ वो मेरे पास सोया ही नहीं।


और लगता हे घर वालो को मेरी हरकतों का पता चल गया तो उन्होंने मुझे मेरे भाई से दूर अपने चाचा के पास दिल्ली भेज दिया। मुझे तो अब लण्ड की लगन लग चुकी थी। मेने दिल्ली में जाते ही पड़ोस के के लड़के को पटा लिया। और एक दिन उसे छत पर बुलाया और उसने मुझे पहली बार लिप्स पर किस किया।


लेकिन उसका पता भी चाची को चल गया तो उन्होंने मुझे बहुत डाटा पर चाची ने मेरे घर पर नहीं बताया। दोस्तों मैंने अभी तक ठीक से सेक्स भी नहीं किया था। और पूरी तरह से बदनाम हो चुकी थी। एक दिन में उसी लड़के से फ़ोन पर बात कर रही थी। और चाची अपने मायके गयी हुयी थी। और चाचा दूकान गए हुए थे। मैंने उस लड़के को अपने घर बुलाया वो घर पर आया और बस हम बाते ही कर रहे थे की किसी ने चाचा जी को बता दिया की तुम्हारे घर पर कोई गया है। चाचाजी की दूकान घर के पास में ही है तो वो तुरंत घर पहुंचे। अभी मेने अपने उतारना स्टार्ट ही किये थे की चाचाजी आ गए। और में उस समय ब्रा और लेगी पहने हुयी थी।


चाचाजी मुझे इस हालत में देखकर बहुत गुस्से में आ गए और उन्होंने उस लड़के को जमकर पीट दिया। पिटाई के डर से वो लड़का अपनी जान बचाकर भाग निकला। और चाचाजी ने गेट बंद कर दिया और मुझे एक जोरदार तमाचा लगाया।


उनके तमाचे से मेरा मन और ज्यादा रोमांटिक हो गया। पर में चाचाजी के सामने रोने लगी और कहने लगी की प्लीज चाचाजी माफ़ कर दीजिये अब ऐसी गलती नहीं होगी। और में अभी भी ब्रा में ही थी। फिर चाचाजी ने मुझे घसीटकर कमरे में ले जाकर बेड पर गिरा दिया। और बोले क्यों नाक कटवा रही है हमारी। ज्यादा जवानी चढ़ी है क्या। और जब में बेड पर गिरी तो मेरा एक बूब बहार निकल गया था। पर मेने जान बूझकर उसे अंदर नहीं किया और चाचा को भी वह दिख गया।


चाचा और ज्यादा गुस्सा दिखाते हुए बोले रुक आज तेरी जवानी उतरता हूँ। और उन्होंने अपने कपडे निकाल दिए और मेरे सामने पूरे नंगे हो गए। उनका लण्ड तो पहले ही मेरे बूब्स देखकर खड़ा हो गया था। पर में चाचाजी का लण्ड देखकर हैरान थी। लगभग सात इंच लंबा और मोटा लण्ड था उनका जो देखकर ऐसा लग रहा था की मेरी चूत ही फाड़ देगा।


चाचाजी के लण्ड को देखकर तो मेरे मुँह में पानी गया था। अचानक चाचाजी मेरे पास आये और मेरे बालो को कसकर पकड़ लिया और मेरे मुँह को उनके लण्ड के पास ले जाते हुए बोले ले चूस मेरा लण्ड इसी का शौक हे न तुझे। मुझे शौक तो था पर में जानबूझकर रोने का नाटक कर रही थी ,और चाचाजी का मेरे रोने से और ज्यादा मौसम बन रहा था।


फिर चाचाजी ने जोर से मेरे बालो के सहारे मुझे खींचकर बेड के निचे गिरा दिया। अब में घुटने के बल एकदम उनके लण्ड के पास अपना मुँह किये उनके लण्ड को देख रही थी। और चाचा ने चिल्लाते हुए कहा चल खोल अपना मुँह और मेने अपना मुँह खोल दिया और चाचाजी ने मेरे मुँह में अपना लौड़ा घुसा दिया। इस लण्ड के स्वाद की मुझे कई दिनों से तलाश थी। में बस अब लौड़े को चूसने लगी



फिर चाचाजी की गोटियों को भी मेने अपने मुँह में भर ली और पूरा लण्ड चूस डाला। और चाचा जी भी अह्ह्ह उह्ह्ह्ह ओह्ह बेबी  करके मुझे लौड़ा चूसाने लगे। फिर चाचाजी ने मेरे सारे कपडे निकाल कर मुझे निर्वस्त्र कर दिया। और मेरी चूत चाटने लगे।  चूत चटवाने का अनुभव सबसे बढ़िया था। में बता ही नहीं सकती मुझे कितना ज्यादा सुकून मिल रहा था। 


चाचाजी बहुत ही ज्यादा रोमांटिक थे मुझे नहीं पता था नहीं तो में किसी और को पटाती भी नहीं। बस चाचाजी से ही चुदवाती। अब चाचाजी समझ गए की मुझे मजा आ रहा है तो चाचाजी ने मुझे घोड़ी बना दिया और मेरी गांड के छेद को चौड़ा करके उसमे अपनी जीभ डालकर मेरी गांड चाटने लगे। ये सब चाचाजी के द्वारा दिए वो सुकून थे। जिसकी में कल्पना भी नहीं कर सकती थी।


अब चाचा जी ने मेरा पूरी तरह से मौसम बनाकर मेरी चूत में अपना लण्ड घुसा दिया।  अह्ह्ह्हह्हह ओह्ह्ह्हह्हह माय गॉड। इतना जोर का दर्द हुआ। मेरी चूत ऐसा लगा मनो फट गयी हो। मेरी आँखों से आंसू बहने लगे थे , मेरा शरीर कांपने लगा था। और चाचाजी ने फिर मुझे किस किया मेरे बूब्स को चूसने लगे और उनका लण्ड अभी मेरी चूत में ही फंसा हुआ था।


अब वो दूध को पिते हुए थोड़ा थोड़ा हिलने लगे। अब मेरा फिर से मौसम बन गया था। और चाचाजी अब धीरे धीरे मुझे चोदने लगे। अब मुझे मजा आने लगा। और मेने चाचाजी की गांड पकड़ कर अपनी और करने लगी वो समझ गए की इसको अब जोर से चोदना है। अब चाचाजी मुझे बेरहमी से जोर जोर से चोदने लगे। और कमरे में अह्ह्ह्ह उह्ह्ह्हह्ह उईईई माँ मर गयी।  की आवाज गूंजने लगी। 


इसे भी पढ़ें - hard sex with punishment new sex story hindi


varun

Hi. I;m Designer of Blog Magic. Im Founder of Technical world hindi. Im Creative Art Director, Web Designer, Interaction Designer, Industrial Designer, Web Developer, Business Enthusiast, StartUp Enthusiast, Speaker, Writer and Photographer. Inspired to make things looks better.

  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
  • Image
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment

Sexy saali ki hot chudaai

sexy saali ki hot chudaai: जैसे ही मेरी साली ने मेरे लौड़े को हाथ में लिया। वो ख़ुशी से लण्ड को हाथ में लेकर उसके साथ खेलने लगी। और जैसे ही म...